आज का पंचांग 10 जून 2020

Aaj Ka Panchang 10 June 2020

आज दिनांक 10 जून 2020 ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि और दिन बुधवार का है। विक्रम संवत् 2077 है। सूर्य उत्तरायण की स्थिति में उत्तर गोलार्द्ध में मौजूद है। ग्रीष्म ऋतु है।

आज पंचमी तिथि रात्रि 08 बजकर 03 मिनट तक बनी रहेगी, इसके पश्चात षष्ठी तिथि का आरंभ हो जायेगा। नक्षत्रों में श्रवण नक्षत्र है जो आज दोपहर 02 बजकर 57 मिनट तक बना रहेगा। उसके बाद धनिष्ठा नक्षत्र की शुरुआत होगी। इसके अलावा आज इंद्र योग सुबह 10 बजकर 35 मिनट तक बना है, फिर वैधृति योग का आरम्भ होगा।

आज सुबह 07 बजकर 47 मिनट तक कौलव करण बना रहेगा, जिसके बाद तैतिल करण आज रात्रि 08 बजकर 03 मिनट बना रहेगा। इसके बाद गर करण आरंभ होगा।

आज सूर्य मृगशिरा नक्षत्र में है जो वृषभ राशि मे संचार करेगा। वहीं चंद्रमा 11 जून की सुबह 03 बजकर 42 मिनट तक मकर राशि, तत्पश्चात कुंभ राशि में संचार करेगा।

सूर्योदय: सुबह 05 बजकर 24 मिनट पर।
सूर्यास्त: शाम 07 बजकर 20 मिनट पर।

चंद्रोदय: रात्रि 11 बजकर 28 मिनट पर।
चन्द्रास्त: 11 जून सुबह 09  बजकर 33 मिनट पर।

आज के शुभ मुहूर्त

  • विजय मुहूर्त दोपहर 02 बजकर 41 मिनट से दोपहर 03 बजकर 37 मिनट तक रहेगा।
  • गोधूलि मुहूर्त शाम 07 बजकर 06 मिनट से शाम 07 बजकर 28 मिनट तक है।
  • निशिता मुहूर्त मध्य रात्रि 12 बजकर 02 मिनट (11 जून 00:02 am) से लेकर 12 बजकर 40 मिनट (11 जून 00:40am) तक है।  
  • ब्रह्म मुहूर्त 11 जून 2020 प्रातः 04 बजकर 03 मिनट से लेकर प्रातः 04 बजकर 41 मिनट तक बना रहेगा।

आज के अशुभ मुहूर्त

  • यमगंड सुबह 07 बजकर 05 मिनट से सुबह 8 बजकर 53 मिनट तक रहेगा।
  • गुलिक काल सुबह 10 बजकर 35 से दोपहर12 बजकर 22 मिनट तक रहेगा।  
  • दुर्मुहूर्त काल सुबह 11 बजकर 52 मिनट से दोपहर के 12 बजकर 50 मिनट तक रहेगा।
  • राहुकाल दोपहर 12 बजकर 20 मिनट से दोपहर 02 बजकर 07 मिनट तक बना रहेगा।
  • वर्ज्य काल आज रात्रि 07 बजकर 13 मिनट से रात्रि 08 बजकर 58 मिनट तक बना रहेगा।।
  • पंचक 11 जून की प्रातः 03 बजकर 40 मिनट से प्रातः 5 बजकर 24 मिनट तक रहेगा।

आज के मंत्र

बुधवार को उक्त मंत्र का जप करने से भगवान गणेश आपके जीवन के सारे कष्ट बाधाओं को हर लेते हैं एवं शुभ फल प्रदान करते हैं। इस मंत्र का कम से कम 21 बार उच्चारण अवश्य करें।

गजाननं भूत गणादि सेवितं कपित्थ जम्बू फल चारूभक्षणं।
उमासुतं शोक विनाशकारकं नमामि विघ्रेश्वरपादपंकजम।।

बुधवार को उक्त मंत्र का जप करने से श्री गणेश आपकी बौद्धिक क्षमता को विकसित करते हैं। साथ ही जीवन के सभी तनाव को समाप्त करते हैं। इस मंत्र के जप से आपकी समझ एवं बौद्धिकता में वृद्धि होती है। जिससे लोग आपका मान सम्मान करते हैं।

ॐ नमो विघ्नहराय गं गणपतये नम:।

आज के उपाय

आज के बुध के उपाय निम्नलिखित हैं:

  • मूंग के लड्डू का श्री गणेश को भोग लगाएं। साथ ही गुड़ का भी प्रसाद चढ़ाये।
  • आज के दिन गाय को हरी घास खिलाएं साथ ही अपने भोजन का तीसरा हिस्सा गाय के लिए निकालें।
  • भगवान श्री गणेश की मंदिर में जाकर पूजा-अर्चना करें एवं दान पुण्य भी करें।
  • बुधवार के दिन किन्नरों को हरे वस्त्र का दान करने से आपके सभी दोष मुक्त होते हैं एवं घर-परिवार में सुख-शांति बरकरार रहती है।


राजीव दीक्षित संस्थान द्वारा आयुर्वेदिक एवं स्वदेशी उत्पाद खरीदें, और संस्था को आगे बढ़ाने में सहयोग करें
अभी आर्डर करें