बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima)

Buddha Purnima

बुद्ध पूर्णिमा हर वर्ष वैशाख मास की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है, इस कारण इसे वैशाख पूर्णिमा भी कहते हैं। आइए जानते हैं इसके पीछे के तथ्यों को एवं इस वर्ष बुद्ध पूर्णिमा हेतु तिथि व शुभ मुहूर्त।

बुद्ध पूर्णिमा 2020 तिथि एवं मुहूर्त

तिथि: 7 मई 2020  दिन गुरुवार

पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ: 6 मई, शाम 7 बजकर 44 मिनट से

पूर्णिमा तिथि समापन: 7 मई, शाम 4 बजकर 14 मिनट पर

बुद्ध पूर्णिमा और भगवान् बुद्ध का सम्बन्ध

बुद्ध पूर्णिमा 'बौद्ध धर्म' का सर्वश्रेष्ठ एवं सर्वोत्तम त्यौहार है। माना जाता है कि इसी पूर्णिमा के दिन भगवान बुद्ध का जन्म, ज्ञान की प्राप्ति एवं उनका महाप्रयाण हुआ था। भगवान बुद्ध एवं बौद्ध धर्म ऐतिहासिक पन्नों का एक अभीष्ट घटनाक्रम है। भगवान बुद्ध शाक्य वंश के राजकुमार थे। उनका जन्म 563 ईसा पूर्व  शाक्य के राजा शुद्धोधन के राज्य कपिलवस्तु के पास लुंबिनी नामक स्थान पर हुआ था।  बुद्ध एवं शाक्य इतिहास के पन्नों में निहित विशेष अध्याय है। शाक्य एक छोटा सा प्रांत था जो वर्तमान में भारत-नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र में मौजूद है।

ये भी पढ़ें:-

बुद्ध नाम से प्रचलित भगवान बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था। सिद्धार्थ राजा शुद्धोधन के राज महलों में पले बढ़े थे। इनकी माता माया देवी इनके जन्म के कुछ दिन पश्चात स्वर्ग सिधार गई। तत्पश्चात उनकी मौसी ने सिद्धार्थ का पालन पोषण किया। सिद्धार्थ राजमहलों में पले-बढ़े एवं उनका विवाह हो गया।

एक दिन की बात है, सिद्धार्थ अपने घर से अपने राज्य के भ्रमण हेतु बाहर निकले। इस दौरान उन्होंने एक अत्यंत बीमार व्यक्ति को देखा जिसे देखकर वे संशय की स्थिति में आ गए कुछ और आगे चलने पर उन्होंने एक वृद्ध व्यक्ति को देखा। फिर वे गहन चिंतन में डूब गए और सोचते हुए आगे बढ़े तो उन्होंने एक मृत व्यक्ति को देखा। इन सब को देख कर उनके मन में इन तीनों स्थितियों के संबंध में स्वयं को लेकर प्रश्नचिन्ह खड़ा हो गया। वे सोचने लगे कि मैं भी बीमार पड़ सकता हूँ, क्या मैं भी एकदिन बूढ़ा हो जाऊंगा और फिर मर भी जाऊंगा। इन प्रश्नों से उनके मन में उथल पुथल मच गई। वे तुरंत वहाँ से राजमहल लौटे और उस पर गहन चिंतन करने लगे।

अपने प्रश्नों के उत्तर को जानने हेतु सिद्दार्थ दर-बदर भटकने लगे। तत्पश्चात उन्हें एक ऋषि ने मुक्ति मार्ग के गूढ़ रहस्य एवं उसे प्राप्त करने हेतु तरीके बताएं जिसके बाद भगवान बुद्ध ने राजसी सुख का परित्याग कर सन्यासी जीवन को अपनाकर मोक्ष की तलाश में निकलने की ठान ली और उन्होंने 29 वर्ष की उम्र में अपना राजमहल छोड़ सन्यास को चुन लिया। वे 6 वर्षों तक पीपल के पेड़ के नीचे कठिन तपस्या में लीन रहे जिसके पश्चात उन्हें परमब्रह्म परमात्मा एवं मोक्ष संबंधी गूढ़ ज्ञान की प्राप्ति हुई। यह दिन वैशाख पूर्णिमा का ही था। वहीं कुछ वर्षों पश्चात धर्म की स्थापना एवं विस्तार कर वे 483 ईसा पूर्व में भूलोक को छोड़ ब्रह्म में लीन होकर मोक्ष की प्राप्ति कर गये।  उस दिन से उस वृक्ष को बोधि वृक्ष एवं पूर्णिमा की इस तिथि को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से विश्वभर में मनाया जाने लगा।

क्या होता है बुद्ध पुर्णिमा पर विशेष

  • आज चंद्रमा अपने पूर्णतः प्रदीप्त रूप को धारण किए प्रकाशवान रहता है एवं जन मानस के अंतर्गत को प्रकाशित कर शीतलता व शांति प्रदान करने का कार्य करता है।
  • आज के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन गंगा स्नान करना मोक्ष की प्राप्ति के मार्ग को प्रशस्त करता है।
  • बुद्ध पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की आराधना की जाती है क्योंकि भगवान विष्णु के अवतारों में से एक बुद्ध का अवतार को माना जाता है।
  • बुद्धपूर्णिमा भारत समेत कई अन्य देशों में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है।
  • बुद्ध पूर्णिमा को श्रीलंका समेत कुछ देशों में वैशाख के अपभ्रंश के रूप में यानी वैशाक के नाम से जाना जाता है एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।
  • आज बौद्ध भिक्षुओं द्वारा बौद्ध धर्म के उपदेशों का पालन करते हुए उसे जीवन में से धारण करने का संकल्प लिया जाता है एवं दीपक जलाया जाता है।
  • बुद्ध पूर्णिमा के दिन बोद्धि वृक्ष की पूजा-अर्चना का विशेष विधान विधान है।
  • आज के दिन कई बौद्ध भिक्षुक आत्म शांति हेतु बौद्ध गया (जो कि बिहार में अवस्थित है) का भ्रमण करने आते हैं एवं भगवान बुद्ध के सूक्ष्म स्वरूप को अनुभव करते हैं।
  • बौद्ध काल एक ऐतिहासिक काल था जिसके कई प्रमाण भी है। अतः भगवान बुध की अस्थियां दिल्ली के संग्रहालय में रखी गई हैं जिसे बुद्ध पूर्णिमा के दिन निकाला जाता है जिसके कई बौद्ध भिक्क्षुक वर्ष भर से दर्शनाभिलाषि होते हैं।

भारत में प्रचलित कुछ अन्य पर्व एवं त्यौहार:



राजीव दीक्षित संस्थान द्वारा आयुर्वेदिक एवं स्वदेशी उत्पाद खरीदें, और संस्था को आगे बढ़ाने में सहयोग करें
अभी आर्डर करें