आज का पंचांग 19 मई 2020

Aaj Ka Panchang 19 May 2020

आज दिनांक 19 मई 2020 ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि और दिन मंगलवार है। विक्रम संवत् 2077 है। आज सूर्य उत्तरायण की स्थिति में उत्तर गोलार्द्ध में मौजूद है। ग्रीष्म ऋतु है। आज द्वादशी तिथि सायं 05 बजकर 31 मिनट तक रहेगी जिसके बाद त्रयोदशी तिथि शुरू हो जाएगी। इसके अतिरिक्त आज रेवती नक्षत्र सायं 07 बजकर 53 मिनट तक बना हुआ है, फिर अश्विनी नक्षत्र की शुरुआत होगी। साथ ही आयुष्मान योग अगले दिन तड़के 05 बजकर 20 मिनट तक बना है, फिर सौभाग्य योग का आरंभ हो जायेगा। आज तैतिल करण सायं 05 बजकर 32 मिनट तक बना रहेगा, जिसके पश्चात गर करण का आरंभ होगा। आज चंद्रमा शाम 07 बजकर 53 मिनट तक मीन राशि और फिर मेष राशि पर संचार करेगा।

सूर्योदय: सुबह 05 बजकर 27 मिनट पर।
सूर्यास्त: शाम 07 बजकर 07 मिनट पर।

ये भी पढ़ें: जानिये आपका आज का दैनिक राशिफल

शुभ मुहूर्त

किसी कार्य को शुरू करने के पूर्व सही मुहूर्त का ज्ञात होना बेहद आवश्यक है। शुभ मुहूर्त में आरंभ किया गया कार्य हमेशा शुभफलदायी होता है। आज के शुभ मुहूर्तों में अभिजित मुहूर्त प्रातः 11 बजकर 51 मिनट से दोपहर 12 बजकर 44 मिनट तक बना हुआ है। अभिजीत मुहूर्त में आरंभ किया गया कार्य अवश्य ही फलदायी होगा। इसके अतिरिक्त विजय मुहूर्त मध्याह्न 02 बजकर 35 मिनट से 03 बजकर 28 मिनट तक रहेगा। साथ ही आज निशिथ काल मध्यरात्रि 11 बजकर 57 मिनट से 12 बजकर 38 मिनट तक बना हुआ है। वहीं गोधूलि मुहूर्त शाम 06 बजकर 54 मिनट से 07 बजकर 18 मिनट तक बना है। आज अमृत काल शाम 05 बजकर 12 मिनट से 07 बजे तक रहेगा जिसके बाद सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग शाम 07 बजकर 54 मिनट से अगली सुबह 05 बजकर 28 मिनट तक रहेगा। उपरोक्त काल अवधि में आरम्भ किया कार्य ज्योतिषीय अनुरूप शुभ फलदायी है। अतः इस दौरान ही शुभ कार्यों की शुरुआत करें।

अशुभ मुहूर्त

अशुभ मुहूर्त में किये जा रहे कार्यों में व्यवधान उत्पन्न होना तय माना जाता है। अतः किसी भी अच्छे कार्य के आरम्भ के पूर्व इन मुहूर्तों की काल अवधि की समझ आवश्यक है। आज के अशुभ मुहूर्त में राहुकाल मध्याह्न 03 बजकर 26 मिनट से सांय 05 बजकर 25 मिनट तक बना हुआ रहेगा। राहुकाल को सबसे अशुभ एवं संकट का काल माना जाता है। कहा जाता है इस दौरान आरम्भ किये गए कार्यों में अवश्य ही व्यवधान उत्पन्न होता है। इसके अतिरिक्त यमगंड प्रातः 08 बजकर 53 मिनट से 10 बजकर 35 मिनट तक रहेगा। यह काल भी किसी भी अच्छे कार्य की शुरुआत हेतु ठीक नही है। इसके अतिरिक्त आज मध्याह्न 12 बजकर 17 मिनट से 02 बजे तक गुलिक काल रहेगा। दुर्मुहूर्त काल प्रातः 08 बजकर 11 मिनट से 09 बजकर 08 मिनट तक रहेगा और साथ ही अर्धरात्रि 11 बजकर 15 मिनट से 11 बजकर 58 मिनट तक अपने दुष्प्रभाव दिखायेगा। साथ ही वर्ज्य काल प्रातः 06 बजकर 26 मिनट से 08 बजकर 14 मिनट तक रहकर कार्यों में विघ्न उत्पन्न करता रहेगा। गण्ड मूल पूरे दिन रहेगा। आज प्रातः 05 बजकर 27 मिनट से सांय 07 बजकर 54 मिनट तक पंचक रहेगा। अतः ध्यान रहें उपरोक्त बताये गए अवधि में किसी महत्वपूर्ण कार्य को आरम्भ न करें।

ये भी पढ़ें: नवग्रह शांति के उपाय

मंत्र

  • आज सूर्योदय के पश्चात मूंगे की माला से उक्त मंत्र का 251 बार जप करें आपके सभी संकट दूर होंगे एवं घर परिवार में सुख शांति समृद्धि व सिद्धि आएगी।

।। ॐ मारकाय नमः ।।

  • आज के दिन संध्याकालीन बेला में दीपक जलाकर भगवान हनुमान के समक्ष उक्त मंत्र का कम से कम 108 बार जप करें। इससे आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी। सारे क्रियाकलाप आपकी अनुरूप होने लगेंगे।

ॐ महाबलाय वीराय चिरंजिवीन उद्दते।
हारिणे वज्र देहाय चोलंग्घितमहाव्यये।।

  • मंगलवार के दिन उक्त मंत्र का जप करने से घर के सभी बुरे साए कलह-क्लेश आदि समाप्त होते हैं। घर पर भूत-पिशाच, पैतृक कष्ट आदि की समस्याएं समाप्त होती हैं एवं सुख-शांति समृद्धि पूर्ण सकारात्मक परिवेश उत्पन्न होता है।

ॐ दक्षिणमुखाय पच्चमुख हनुमते करालबदनाय।
नारसिंहाय ॐ हां हीं हूं हौं हः सकलभीतप्रेतदमनाय स्वाहाः।।
प्रनवउं पवनकुमार खल बन पावक ग्यानधन।
जासु हृदय आगार बसिंह राम सर चाप घर।।

आज के उपाय

  • आज प्रातः काल ताजी रोटी और गुड़ का गाय को सेवन कराएं।
  • भगवान हनुमान के मंदिर जाकर उनकी पूजा आराधना करें।
  • हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें।
  • आज के दिन सुंदरकांड का पाठ विशेष फलदाई होता है।
  • बच्चों में हनुमानजी को चढ़ाएं प्रसाद का लड्डू बांटे।


राजीव दीक्षित संस्थान द्वारा आयुर्वेदिक एवं स्वदेशी उत्पाद खरीदें, और संस्था को आगे बढ़ाने में सहयोग करें
अभी आर्डर करें