पौष पुत्रदा एकादशी

Pausha Putrada Ekadashi

हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत को सर्वाधिक महत्वकारी माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि सभी व्रतों में सर्वश्रेष्ठ एवं फलदाई व्रत एकादशी का व्रत है। एकादशी का व्रत धारण करने वाले जातकों को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

पूरे वर्ष भर में 24 एकादशी का व्रत होता है, परन्तु जिस वर्ष मलमास पड़ जाता है, उस वर्ष यह संख्या बढ़कर 26 एकादशी का व्रत हो जाता है। कई जातक पूरे वर्ष भर में पड़ने वाले सभी व्रतों का धारण करते हैं जो कि भिन्न-भिन्न नामों से जाना जाता है।

पूरे वर्ष भर में पड़ने वाले सभी 24 अथवा 26 एकादशी व्रत के अलग-अलग नाम पूजन विधि आदि होते हैं। अलग-अलग एकादशी व्रतों में से पौष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को काफी महत्वकारी माना जाता है। पौष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को पुत्रदा एकादशी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि प्रत्येक वर्ष में दो पुत्रदा एकादशी व्रत होते हैं जिसमें से एक पुत्रदा एकादशी व्रत पौष माह में तो दूसरा पुत्रदा एकादशी व्रत सावन के माह में मनाया जाता है

ऐसा माना जाता है कि जो भी जातक इस एकादशी व्रत का धारण करते हैं, उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होने के साथ-साथ संतान सुख की प्राप्ति भी होती हैं। तो आइए जानते हैं पौष माह के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले पौष पुत्रदा एकादशी व्रत के मुहूर्त महत्व विधि आदि के संबंध में-

पौष पुत्रदा एकादशी व्रत हेतु शुभ मुहूर्त व तिथि

इस वर्ष 2021 में पौष पुत्रदा एकादशी व्रत 24 जनवरी को धारण किया जाना है जिसमें इस व्रत का आरंभ 1 दिन पूर्व की संध्या कालीन बेला से, अर्थात 23 जनवरी 2021 की संध्या 8 बजकर 56 मिनट से होने जा रहा है, जो अगले तिथि अर्थात 24 तारीख 2021 को पूरे दिन बना रहेगा। तत्पश्चात रात्रि कालीन बेला में 10 बजकर 57 मिनट पर एकादशी तिथि का समापन होगा जिसका सभी जातक अगले दिन अर्थात 25 जनवरी 2021 की तिथि को पारण करेंगे।

ये भी देखें: इस तरह करें पंचोपचार पूजा, होंगे सभी इष्ट प्रसन्न

पुत्रदा एकादशी से जुड़ी कथा व महत्व

पुत्रदा एकादशी व्रत को अत्यंत ही महत्वकारी एवं लाभकारी माना जाता है। पुत्रदा एकादशी व्रत के संबंध में अनेकों कथाएं प्रचलित हैं। पौष पुत्रदा एकादशी की एक कथा के अनुरूप बहुत समय पहले एक राजा भद्रावती पूरी में रहा करता था। उस राजा का नाम सुकेतुमान था तथा भद्रावती पूरी में राज करता था। उसकी पत्नी का नाम चंपा था।

भद्रावती पुरी के राजा को विवाह के कई वर्षों के पश्चात भी किसी भी संतान की प्राप्ति नहीं हुई थी। वे संतान के सुख से वंचित थे जिस वजह से उन्हें अपने राज्य व अपने आने वाले भविष्य को लेकर चिंताएं सताने लगी। वे अपने राज्य को लेकर अत्यधिक चिंतित होने लगे। उनकी जर्जर हो रही स्थिति का अन्य राज्य लाभ उठाने हेतु प्रयासरत थे। ऐसे में वे काफी दुखी होने लगे और ऋषि महर्षि व तपस्वी से इस संबंध में उपाय ढूंढने लगे।

ये भी देखें: एकादशी के दिन क्यों हैं चावल का सेवन वर्जित?

एक दिन की बात है, राजा सुकेतुमान अपने राज्य के एक वन में एक सरोवर के निकट किसी जानवर की शिकार की तलाश में पहुंचे जहाँ पर एक मुनि विराजमान थे। राजा वहाँ उस मुनि के पास पहुंचकर उनके चरण स्पर्श करते हैं और उनसे अपनी समस्याओं के समाधान हेतु उपाय की मांग करते हैं। तत्पश्चात उस मुनि जिसका नाम विश्वदेव था, उन्होंने राजा सुकेतुमान को पुत्रदा एकादशी व्रत करने का सुझाव दिया। तत्पश्चात ही राजन तथा उनकी पत्नी चंपा ने एक-साथ पौष पुत्रदा एकादशी व्रत विधिवत तौर तरीके से धारण किया और अगले दिन दान धर्म के साथ व्रत का पारण किया। तत्पश्चात उन्हें कुछ दिनों के पश्चात एक पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई जो आगे चलकर उस राज्य का राजा कहलाया।

पुत्रदा एकादशी व्रत हेतु कुछ आवश्यक एवं महत्वपूर्ण नियम

  • पुत्रदा एकादशी व्रत धारण करने वाले व्रतियों को 1 दिन पूर्व अर्थात दशमी तिथि के दिन लहसुन, प्याज के अतिरिक्त कुछ विशेष अमान्य फल फूल जैसे बैंगन, टमाटर आदि का परित्याग कर शुद्ध व सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए, साथ ही एक दिन पूर्व ही अगले दिन के व्रत हेतु जातकों को अपनी मनोदशा तैयार कर लेनी चाहिए।
  • 1 दिन पूर्व वाली तिथि यानी दसवीं को जातकों को संध्याकालीन बेला तक ही भोजन आदि का ग्रहण करना चाहिए, तत्पश्चात अन्न-जल का ग्रहण नहीं करना चाहिए।
  • जातकों को एकादशी व्रत वाली तिथि को भगवान विष्णु की विशेष पूजा आराधना करनी चाहिए।
  • इस दिन जातकों को हर प्रकार की नकारात्मक प्रवृत्तियों व क्रियाकलापों से बचने का कार्य करना चाहिए। किसी अन्य के संबंध में बुरा सूचना व किसी अन्य का अहित करना, झूठ बोलना, पाप कर्म करना, इत्यादि इन सभी से स्वयं को वंचित रखना चाहिए।
  • एकादशी के पारण वाली तिथि को जातकों को प्रातः काल स्नान पूजा करके पारण की प्रक्रिया को पूर्ण करने से पूर्व ही दान धर्म भी करना चाहिए।
  • पौष पुत्रदा एकादशी व्रत धारण करने से लेकर उनके पारण तक की काल अवधि में मुहूर्त समय आदि का पूरा ख्याल रखना चाहिए।

पौष पुत्रदा एकादशी व्रत विधि

  • पौष पुत्रदा एकादशी व्रत धारण करने हेतु जातकों को 1 दिन पूर्व से ही मनोदशा तैयार कर लेनी चाहिए और 1 दिन पूर्व से ही शुद्ध व सात्विक भोजन का सेवन करना चाहिए।
  • वहीं एकादशी की तिथि को जातकों को प्रातः काल को उठकर किसी पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए।
  • तत्पश्चात प्रातः काल भगवान सूर्योदय के उदय के काल में भगवान सूर्य को जल व लाल पुष्पों से अर्घ्य प्रदान करना चाहिए।
  • फिर सभी व्रत धारियों को भगवान विष्णु के साथ-साथ माता लक्ष्मी की विशेष आराधना करनी चाहिए।
  • इस दिन जातकों को संध्या कालीन बेला में भगवान श्रीकृष्ण की विशेष पूजा आराधना व आरती करनी चाहिए।
  • संध्या कालीन बेला में दीपदान की क्रिया भी करनी चाहिए।
  • एकादशी की रात्रि को जागरण कर भगवान श्री हरि विष्णु के गुणगान व भजन-कीर्तन में अपनी रात्रि बितानी चाहिए।
  • वहीं अगले दिन प्रातः जातकों को पूजन आदि की क्रियाओं को पूर्ण कर गरीबों भूखों व जरूरतमंदों को भोजन दान कर तत्पश्चात मुहूर्त अनुसार स्वयं भी भोजन ग्रहण कर व्रत का पारण करना चाहिए।


राजीव दीक्षित संस्थान द्वारा आयुर्वेदिक एवं स्वदेशी उत्पाद खरीदें, और संस्था को आगे बढ़ाने में सहयोग करें
अभी आर्डर करें